Spread the love

india launch E – Rupi in 2021 भारत ने कैशलेस और संपर्क रहित भुगतान प्रणाली शुरू की है। जिसका नाम हे ई रुपी E – Rupi,

पीएम मोदी ने सोमवार को इलेक्ट्रॉनिक वाउचर पर आधारित डिजिटल पेमेंट सिस्टम ‘ ई-रूपी ‘ लॉन्च किया। देश की अपनी डिजिटल मुद्रा के रूप में यह भारत का पहला कदम है।

ई रुपी e - rupi india launch E - Rupi in 2021

image source https://hindi.gadgets360.com

ई रूपी एक कैशलेस और डिजिटल भुगतान प्रणाली माध्यम है जो लाभार्थियों द्वारा एसएमएस या क्यूआर कोड के रूप में प्राप्त किया जाएगा। यह एक तरह से गिफ्ट वाउचर के समान होगा जिसे बिना किसी क्रेडिट या डेबिट कार्ड या मोबाइल ऐप या इंटरनेट बैंकिंग के बगैर भू हे।

देश में डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने में अहम भूमिका india launch E – Rupi

पीएम मोदी ने इसके लॉन्च के मौके पर कहा कि देश में डिजिटल ट्रांजैक्शन और डीबीटी को बढ़ावा देने में ई रूपी के वाउचर अहम भूमिका निभाएंगे. इससे सभी लोगों को लक्षित, पारदर्शी और रिसाव मुक्त वितरण में मदद मिलेगी।

उन्होंने यह भी कहा कि ई-रूपी इस बात का उदाहरण है कि कैसे भारत 21वीं सदी में उन्नत तकनीक की मदद से आगे बढ़ रहा है और लोगों को जोड़ रहा है। मोदी जी ने कहा कि उन्हें खुशी है कि इसकी शुरुआत इसी साल हुई है, जब भारत अपनी आजादी की 75वीं वर्षगांठ मना रहा है।

पीएम मोदी ने कहा कि सरकार ही नहीं, अगर कोई गैर-सरकारी संगठन किसी की शिक्षा या चिकित्सा में मदद करना चाहता है, तो वह नकद देने के बजाय ई-रुपये का उपयोग कर सकता है। यह सुनिश्चित करेगा कि दान की गई राशि का उपयोग केवल बताए गए उद्देश्य के लिए किया जा रहा है।

मंच को भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई), वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण द्वारा लॉन्च किया गया है। यह प्रणाली व्यक्ति-विशिष्ट और उद्देश्य-विशिष्ट होगी। ई-आरयूपीआई के माध्यम से सेवा प्रदाता को बिना किसी भौतिक इंटरफेस के लाभार्थियों और सेवा प्रदाताओं के साथ जोड़ा जा सकता है।

कैसे ई रुपी के वाउचर जारी किए जाएंगे

इस सिस्टम को एनपीसीआई ने अपने यूपीआई प्लेटफॉर्म पर बनाया है और सभी बैंक e – rupi जारी करने वाली संस्थाएं होंगी यानी बैंक इसे जारी करेंगे। किसी भी कॉर्पोरेट या सरकारी एजेंसी को उस विशिष्ट व्यक्ति और उद्देश्य के संबंध में सहयोगी सरकारी या निजी बैंक से संपर्क करना होगा जिसके लिए भुगतान किया जाना है।

लाभार्थी की पहचान मोबाइल नंबर के माध्यम से की जाएगी और सेवा प्रदाता को एक विशेष व्यक्ति के नाम पर एक वाउचर आवंटित किया जाएगा जो केवल उस व्यक्ति को दिया जाएगा।

ई रूपी के क्या लाभ होंगे

U. S. A. में शिक्षा वाउचर या स्कूल वाउचर की एक प्रणाली है जिसके माध्यम से सरकार छात्रों की शिक्षा के लिए भुगतान करती है।
यह सब्सिडी सीधे माता-पिता को अपने बच्चों को शिक्षित करने के विशिष्ट उद्देश्य के लिए दी जाती है। अमेरिका के अलावा कोलंबिया, चिली, स्वीडन और हांगकांग जैसे देशों में भी स्कूल वाउचर सिस्टम है।

सरकार के मुताबिक ई रुपी  के जरिए बिना किसी लीकेज के कल्याणकारी योजनाएं पहुंचाई जा सकती हैं. इसका उपयोग आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, आदि के तहत मातृ एवं बाल कल्याण योजनाओं, टीबी उन्मूलन कार्यक्रम,

दवाओं और उर्वरक सब्सिडी जैसी योजनाओं के तहत सेवाएं प्रदान करने के लिए भी किया जा सकता है। सरकार के मुताबिक, निजी क्षेत्र भी इन डिजिटल वाउचर का इस्तेमाल अपने कर्मचारी कल्याण और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी कार्यक्रमों के तहत कर सकता है।

THANKS, AND REGARDS

ANGEL MARKETING

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *